ALL News Religion Views Health Astrology Tourism Story Celebration Film/Sport Vedio
नार्वे में आयोजित ‘अन्तर्राष्ट्रीय बाल शिविर’ में प्रतिभाग करेंगे सी.एम.एस. छात्र
June 26, 2019 • समाचार

सिटी मोन्टेसरी स्कूल, गोमती नगर (प्रथम कैम्पस) के तीन छात्र अपनी शिक्षिका के नेतृत्व में  एक माह के अन्तर्राष्ट्रीय बाल शिविर में प्रतिभाग करेंगे। यह अन्तर्राष्ट्रीय बाल शिविर 5 जूलाई से 1 अगस्त तक नार्वे के होर्डेलैण्ड शहर में आयोजित किया जा रहा है। सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी श्री हरि ओम शर्मा ने बताया कि अन्तर्राष्ट्रीय बाल शिविर में प्रतिभाग करने वाले छात्रों में अद्वितीय सचान, उर्वी सचान एवं किशा यादव शामिल हैं जबकि इनका नेतृत्व विद्यालय की शिक्षिका सुश्री प्राची दुबे करेंगी। श्री शर्मा ने बताया कि इंग्लैण्ड की चिल्ड्रेन्स इण्टरनेशनल समर विलेज संस्था (सी.आई.एस.वी.) के तत्वावधान में आयोजित इस अन्तर्राष्ट्रीय बाल शिविर में प्रतिभाग हेतु विभिन्न देशों से 11 से 12 वर्ष की उम्र के बाल दल अपने शिक्षकों के नेतृत्व में नार्वे पहुँच रहे हैं। इसके अलावा 15 से 17 वर्ष की उम्र के जूनियर काउन्सलर भी इस अन्तर्राष्ट्रीय शिविर में अपनी भागीदारी दर्ज करायेंगे जो कि वयस्क प्रतिभागियों व बाल प्रतिभागियों के बीच मध्यस्थ की भूमिका निभायेंगे एवं शिविर की सुव्यवस्था बनाये रखने में योगदान देंगे। अन्तर्राष्ट्रीय बाल शिविर में प्रतिभाग करने वाले विभिन्न देशों के बाल दल विश्व एकता व विश्व शान्ति को बढ़ावा देने वाली अनेकानेक गतिविधियों में सम्मिलित होंगे।

            श्री शर्मा ने बताया कि नार्वे के इस अन्तर्राष्ट्रीय बाल शिविर में प्रतिभाग करने का प्रमुख उद्देश्य छात्रों की सोच को विस्तृत एवं विश्वव्यापी बनाना है जिससे उनमें अन्य देशों के छात्रों के साथ साँस्कृतिक, अर्न्तसांस्कृतिक एवं अन्तर्राष्ट्रीय समझ विकसित हो। सी.आई.एस.वी. कैम्प के 30 दिवसीय प्रवास के दौरान प्रतिभागी छात्र विभिन्न देशों की संस्कृति व सभ्यता को और बेहतर तरीके से समझ पाते हैं एवं उनमें एकता व मैत्री भावना का संचार होता है। श्री शर्मा ने बताया कि अन्तर्राष्ट्रीय बाल शिविर के प्रतिभागी छात्रों को ठहरने, खाने-पीने, खेल-कूद, ऐतिहासिक स्थलों के भ्रमण, चिकित्सा आदि की सारी सुविधायें उपलब्ध करायी जायेगी। इसके अलावा देश-विदेश के बच्चे नार्वे के मेजबान परिवारों में दो दिन रहकर वहां के रहन-सहन, खान-पान, रीति-रिवाज आदि का नजदीक से ज्ञान प्राप्त करेंगे।