ALL News Religion Views Health Astrology Tourism Story Celebration Film/Sport Vedio
राना बेनी माधव बख्श सिंह भारत माता के महान सपूत तथा स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थे
August 27, 2019 • समाचार

राना बेनी माधव बख्श सिंह भारत माता के महान सपूत तथा स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थे उनका जीवन देश की आजादी एवं स्वाधीन भारत की एकता, अखण्डता एवं सामाजिक समरसता को बनाए रखने के लिए समर्पित था। राना बेनी माधव बख्श सिंह जनपद, देश प्रदेश की संतान है जिसने देश व समाज के लिए, स्वाधीनता के लिए अपना सबकुछ न्योछावर किया था। किसी परिवार की गुलामी के लिए नही थे। जब उन्होंने जनपद को 1857 में स्वाधीन घोषित किया तथा तब उनकी उम्र 52-53 वर्ष की थी जिन्होंने अंग्रेजों को जनपद में घुसने नही दिया तथा स्वाधीनता की लड़ाई में अपनी अलग पहचान बनाई सरकार स्वतंत्रता संग्राम के अमर नायक राना बेनी माधव बख्श सिंह सहित अन्य स्वतंत्रता संग्राम ज्ञात व अज्ञात सैनानियों की स्मृतियों को संजोने व उनके सपनों के अनुरूप देश व समाज को आगे बढ़ाने का कार्य कर रही है। जिससे पूरे देश को आनन्द की अनुभूति महसूस कर रहा है। केन्द्र सरकार मोदी जी के नेतृत्व में एतिहासिक निर्णय लेकर कार्य कर रही है जम्मू कश्मीर में 370 धारा को समाप्त कर एक भारत श्रेष्ठ भारत विकासशील भारत की कल्पना को स्वीकार कर रहा है। वही दुसरी तरफ एक परिवार विरोध पर विरोध कर रहा है। 
 फीरोज गांधी आडिटोयिम, रायबरेली  में यह उदगार प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनपद में राना बेनी माधव बख्श सिंह स्मारक समिति द्वारा आयोजित 1857 के प्रथम स्वाधीनता संग्राम के अमर नायक राणा बेनी माधव बख्श सिंह की 215वीं जयन्ती पर आयोजित भाव समर्पण समारोह के अवसर पर व्यक्त किये। उन्होंने कहा कि कश्मीर में 370 धारा विभेद के साथ ही विकास में बाधा उत्पन्न कर रही थी। जिससे केन्द्र सरकार द्वारा समाप्त करके देश वासियों का सम्मान किया तथा जम्मू कश्मीर को विकास की योजनाओं से जोड़कर राष्ट्रवादध्राष्ट्रधर्म का कार्य किया इसमें बिना कोई भेदभाव के निशुल्क कनेक्शन, राशन, प्रधानमंत्री किसान सम्मान, उज्ज्वला योजना आदि बिना भेदभाव के सभी को लाभान्वित कर राष्ट्र धर्म का कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि राष्ट्र धर्म बोलने मात्र से नही होता है बल्कि कार्य करने से होता है। राना बेनी माधव बख्श सिंह की जयन्ती पर भाग लेकर सरकार ने निरन्तर स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के परिजनों के नजदीक आ रही है। सामाजिक, आर्थिक समाज की चिन्तन व सोच भी निरन्तर परिवर्तित हो रही है। भारत एक युवा राष्ट्र है और हमारे विकास के केन्द्र में युवा वर्ग है जिनकी ऊर्जा का सकारात्मक उपयोग कर हम निरन्तर विकास की ओर अग्रसर हैं। आजादी का असली अर्थ जोश, और कुछ कर गुजरने की इच्छा रखते हुए कार्य करना है। जनपद, प्रदेश व देश के अनेक ज्ञात, अज्ञात स्वतन्त्रता सेनानियों व महापुरुषों को याद करते हुए कहा कि महान पुरुषों की कुंर्बानियां, त्याग, बलिदान, प्रेरणा तथा रचनात्मक, सकारात्मक कार्यो से देश व समाज प्रगति की ओर बढ़ रहा है जिसे निरन्तर बनाये रखना है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने केन्द्र व उत्तर प्रदेश शासन की उपलब्धियों को भी विस्तार से बताया तथा इससे पूर्व कार्यक्रम का आयोजन दीप प्रज्ज्वलित कर किया। उन्होंने परमवीर चक्र सूबेदार मेजर योगेन्द्र सिंह यादव के देश के प्रति योगदान को भी सराहा और कहा कि कारगिल युद्ध में सैनिकों के सम्मान का कार्य पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी द्वारा किया गया। सीमा या कारगिल युद्ध में जो भी शहीद हुए उनके आश्रितों को पेट्रोेल पम्प आदि आर्थिक सहायता उपलब्ध कराना का सरकार ने किया। शहाद की कोई सीमा नही होती है व अमूल्य है। भारत सरकार व राज्य सरकार सैनिकों जवानों के लिए निरन्तर आर्थिक मद्द व सहयोग कर रहा है। उनके सम्मान में सड़क, पार्क आदि के नाम से कर रही है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने सभी जनपदों के अधिकारियों को निर्देश दिये है कि अपने जनपदों के सैनिकों को सूची बद्ध कर एक शौर्य स्थल दिल्ली वार मेमोरियल के भांति शहीदों के नाम अंकित कर उनकी गौरवगाथा का वरण करेगी। इस मौके पर मुख्यमंत्री योगीआदित्यनाथ ने जनपद की उपलब्धियों को विस्तार से बताने के साथ ही स्वच्छ भारत मिशन, प्रधानमंत्री आवास, शौचालय आदि के बारे में प्रयोग के साथ ही 2 अक्टूबर गांधी जयन्ती पर देश को पाॅलीथीन मुक्त देश व प्रदेश बनाने का आहवान किया। मुख्यमंत्री ने अमर सेनानी राना बेनी माधव बख्श सिंह के साथ ही कई स्वतंत्रता संग्राम सेनानी पंण्डित राम प्रकाश बिसमिल, भगत सिंह, महात्मा गांधी, अशरफ उल्ला खां  आदि क्रांतिकारियों के योगदान को भी विस्तार से बताया। 
 इस मौके पर विशिष्ट अतिथि परमवीर चक्र सूबेदार मेजर योगेन्द्र सिंह यादव ने भी कारगिल युद्ध के सस्मरण को भी विस्तार से बताया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने समिति की पत्रिका अवध केसरी का भी विमोचन करने के साथ ही अमर सेनानी राना बेनी माधव बख्श सिंह निबंध प्रतियोगिता में एक बच्चे अनादि मिश्र व मंजर भोपाली कवि तथा डा0 जे0के0 श्रीवास्तव आदि को को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित भी किया। 
 इससे पूर्व मा0 मुख्यमंत्री जी ने शहीद चैक व अमर सेनानी राना बेनी माधव बख्श सिंह की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धासुमन अर्पित किया। इस मौके पर जनपद के प्रभारी मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता नन्दी, मण्डल के आईजी एस0के0 भगत, जिलाधिकारी नेहा शर्मा, पुलिस अधीक्षक स्वप्निल ममगैन, मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार, एडीएम एफआर डा0 राजेश कुमार प्रजापति, एसडीएम सदर शशांक त्रिपाठी सहित समस्त एसडीएम, नगर मजिस्टेªट युवराज सिंह, एडी सूचना प्रमोद कुमार, एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह, विधायक राम नरेश रावत, धीरेन्द्र बहादुर सिंह, दल बहादुर कोरी, जिला पंचायत अध्यक्ष अवधेश प्रताप सिंह, रामदेवपाल आदि सहित समिति के राजा राकेश प्रताप सिंह, पूर्व एमएलसी पूर्व विधायक व समिति के अध्यक्ष इन्द्रेश विक्रम सिंह, राधवेन्द्र प्रताप सिंह, सभासद एसपी सिंह आदि अधिकारी व जनपद सहित अन्य जनपदों के पुलिस कर्मी व अधिकारी व मीडिया बन्धु, समाज सेवी भी उपस्थित रहे।