ALL News Religion Views Health Astrology Tourism Story Celebration Film/Sport Vedio
आपको हमारी कसम लौट आईये
January 18, 2020 • संकलित

बालीवुड की कामयाब और बहुचर्चित अभिनेत्री वहिदा रहमान का जन्म 14 मई, 1938 को तमिलनाडु के चेंगलपट्टू में हुआ था। वहीदा ने भारतनाट्यम सीख था उनका सपना एक डाक्टर बनने का था, पर पारिवारिक परिस्थितयांे के चलते वहीदा जी ने 1954 मे तेलुगू फिल्मों माराय जयसिम्हा (1955), बाद में रोजूलु मारयी और एक तमिल फिल्म कालाम मारी पोचु में विजया-सुरेश के राम और श्याम में काम किया जब वो हैदराबाद में अपनी सफलता का जश्न मना रही थी तब गुरूदत्त वहां आये हुये थे, वह अपनी फिल्मों के लिये नए चेहरों की तलाश में थे और यह सुनकर कि वहीदा उर्दू में बात कर सकती थी। गुरूदत्त ने उन्हें हिंदी फिल्मों का आॅफर दिया वाहिदा ने गुरूदत्त को अपने गुरू के रूप में माना। राज खोसला द्वारा निर्देशित अपने  होम प्रोडेक्शन सीआईडी (1956) में एक वैम्प का रोल दिया सीआईडी की भारी सफलता के बाद, गुरूदत्त ने उन्हें प्यासा (1957) में एक मेन रोल दिया। उनकी अगली फिल्मों कागज के फूल (1959) और 1960 के दशक (चैदवी का चाँदवीं का चांद) में साथ मिलकर काम करना जारी रखा। गुरूदत्त ने वहीदा के साथ जोड़ी साहिब बीबी और गुलाम (1962) बनाई। वे 1963 में बर्लिन फिल्म समारोह में उदासीन रिसेप्शन के बाद गुरूदत्त वहीदा एक-दूसरे से दूर हो गए। वहिदा रहमान ने देव आनंद के साथ बनाई इस जोड़ी के रूप में उनकी कई सफल फिल्में आई इस जोड़ी ने बाक्स आफिस पर सीआईडी, सोलवा साल, काला बाजार, बात एक रात की और गाइड (1965) शामिल हैं। वह गाइड के साथ अपने चरम पर पहुंच गई और मांग भी ज्यादा थी। वहीदा को सत्यजीत रे की बंगाली फिल्म अभिजन में काम करने का मौका मिला उन्होंने 1962 में किशोर कुमार के साथ कामेडी फिल्म गर्ल फ्रेंड में काम किया। लेकिन वह साठ के दशक में सफलता का भरपूर स्वाद लेती रही उन्होंने लगातार तीन वर्षो तक दिलीप कुमार के साथ हिट फिल्में दीं 1966 में दिल दिया दर्द लिया, 1967 में राम और श्याम और 1968 में आदमी लेकिन समीक्षकों द्वारा प्रशंसित फिल्में राजेंद्र कुमार के साथ पालकी, धारती और शतरंज, राज कपूर के सामने दो फिल्में एक दिल सौ अफसाने और प्रशंसित तीसरी कसम, जो बसु भट्टाचार्य की पहली फिल्म थी बीस साल बाद और कोहरा जैसी कुछ फिल्में भी थीं इससे उन्हें सत्तर के दशक के शुरूआती दिनों में मुख्य भूमिका निभाने में मदद मिली उनके कैरियर की सबसे बड़ी हिट खामोशी 1970 में राजेश खन्ना के साथ आई थी। 1960, 1970 और 1980 के दशक में उनका कैरियर जारी रहा। उन्होंने गाईड (1965) में उनकी भूमिकाओं के लिए फिल्मफेयर बेस्ट एक्ट्रेस अवार्ड हासिल किया लेकिन बाद की कुछ फिल्में उत्कृष्ट भूमिकाओं के बावजूद, राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता प्रदर्शन सहित रेशमा और शेरा (1971) कुछ फिल्म बाॅक्स आॅफिस पर विफल रही। उनकी फिल्में सफल होने को देखते हुए, वहिदा ने भूमिकाओं के साथ प्रयोग करना जारी रखा और फागुन (1973) में जया भादुरी को मां की भूमिका निभाने का प्रस्ताव स्वीकार कर लिया। यह, वह इस फिल्म के फ्लाप होने के बाद, अपने कैरियर की गलती का संबंध करती है, अचानक लोग नायकों के लिए अपनी मातृभावी भूमिकाएं शुरू करना शुरू कर देते हैं। उन्होंने मनमोहन देसाई की कुली और अल्लाह रखा भी की।। सत्तर के दशक के मध्य से, वाहिदा की प्रमुख नायिका के रूप में कैरियर समाप्त हो गया और चरित्र अभिनेता के रूप में अपना कैरियर शुरू हो गया। इस समय के आसपास, शगुन (1964) में उनके साथ काम करने वाले कमलजीत ने प्रस्तावित किया और 1974 मे उनका विवाह हुआ। विवाह के बाद उन्होंने फिल्म उद्योग से 12 साल की सेवानिवृत्ति के बाद लम्हे (1991) में उनकी उपस्थिति दर्ज कराई और नई पारी में सफल फिल्मों में उन्होंने प्रमुख भूमिकाएं निभाई जिनमें से 1976 में कभी कभी (1976), त्रिशूल (1978), ज्वालामुखी (1980), नमकीन और नमक हलाल (1982), मशाल (1984), चांदनी (1989) और रंग दे बसंती (2006) हाल के वर्षों में उन्होंने ओम जय जगदीश (2002), जल (2005), रंग दे बसंती (2006), 15, पार्क एवेन्यू और दिल्ली 6 (2009) में बुजुर्ग मां और दादी की भूमिका निभाने के लिए वापसी की, जो सभी समीक्षकों द्वारा प्रशंसित थे। 1969 में फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री पुरस्कार, नीलकमल 1967 तीसरी कसम 1968, फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री पुरस्कार, गाइड अभिनय के क्षेत्र में बेमिसाल प्रदर्शन के लिए उन्हें साल 1972 में पद्म श्री और साल 2011 में पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया। भारत के तीसरे सबसे प्रतिष्ठित नागरिक सम्मान पद्म भूषण के लिए नामित किए जाने पर बाॅलीवुड की सदाबहार अभिनेत्री वहीदा रहमान ने सिनेमा उद्योग में और काम करने की उम्मीद जाहिर की है।