ALL News Religion Views Health Astrology Tourism Story Celebration Film/Sport Vedio
गंगा आस्था ही नही अर्थव्यवस्था से भी जुड़ी हुई है
January 28, 2020 • समाचार

रायबरेली। प्रदेश के गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग राज्यमंत्री सुरेश पासी ने पावन गंगा यात्रा कार्यक्रम के तहत डलमऊ की ग्राम पंचायत संकट मोचन घाट पर गंगा आरती एवं अन्य कार्यक्रमों में प्रतिभाग किया। उन्होंने गंगा आस्था ही नही अर्थव्यवस्था से भी जुड़ी हुई है। गंगा के किनारे की जमीन बहुत उबजाऊ होती है जिसे ध्यान देने की जरूरत है। प्रदेश सरकार गंगा यात्रा के माध्यम से गंगा के किनारे खेती को बढ़ावा देकर किसानों की आय को दुगना करने के लिए दृढसंकल्पित है। गंगा की निर्मलता बनाने के लिए केन्द्र व प्रदेश सरकार के जिम्मेदार लोग लेग हुए है। गंगा यात्रा व अर्थ गंगा एक नही पहल है जिसका उद्देश्य गंगा के किनारे पड़ने गांवों का विकास करना तथा वहां के लोगों के प्रति आय को भी बढ़ाना है। देश में 2071 कि0मी व यूपी में गंगा 1140 कि0मी0 का प्रवाह होता है। गंगा की आस्था और अध्यात्मक को अर्थ से जोड़ना है। प्रदेश सरकार के मुखियां व युवा मुख्यमंत्री योगी आदित्नाथ जी द्वारा वृहद योजना बनायी है। अर्थ गंगा से जोड़कर बेहतर परिणाम भी आना शुरू हो गये है। राज्यमत्री ने राजा डलदेव पार्क सड़क घाट पर आयोजित चैपाल से सम्बन्धित जानकारी लीे तथा आमजन को गंगा यात्रा के महत्व को बताया तथा एसडीएम डलमऊ सविता यादव को निर्देश दिये कि आमजन की समस्याओं को सुने तथा समस्याओं का निस्तारण तत्काल किया जाये। जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना व पुलिस अधीक्षक स्वप्निल ममगाई, मुख्य विकास अधिकारी राकेश कुमार आदि अधिकारियों ने आये हुए अतिथियों को आभार प्रकट किया। 
 बछरावा विधायक राम नरेश रावत गंगा यात्रा कार्यक्रम के दौरान गंगा पंचायत गेगासों सहित कई क्षेत्रों का भ्रमण किया। विकास खण्ड लालगंज के गेगासों गंगा पंचायत में चैपाल के दौरान आमजन की समस्याओं को सुना। गंगा यात्रा के सरकारी पम्पलेट ग्रामीण व आमजन मानस को देकर गंगा यात्रा के महत्व के बारे में विस्तरित जानकारी दी। उन्होंने कहा कि आदिकाल से गंगा का महत्व रहा है। गंगा नदी राष्ट्रीय धरोहर है। भारत ही एक ऐसा देश है जो नदी को अपनी मां के सामान मानता है। नदियों का कोई धर्म व जाति नही होता है। नदियां सिख, ईसाई, मुस्लिम, हिन्दु, बोद्ध सभी धर्म के लोग की है। उन्होंने कहा कि गंगा को प्रदूषण से बचना होगा। गंगा को शुद्ध अविरल रखना हम सभी लोगों का दायित्व है। उन्होंने कहा कि यूपी सकरार  गंगा के किनारे गांवों में जीरों बजट खेती व आगेनिक खेती को प्रोत्साहित कर रही है।