ALL News Religion Views Health Astrology Tourism Story Celebration Film/Sport Vedio
गंगा यात्रा के कार्यो को युद्ध स्तर पूर्ण करे
January 20, 2020 • समाचार

मुख्य विकास अधिकारी, रायबरेली राकेश कुमार व सरेनी विधायक धीरेन्द्र बहादुर सिंह ने गंगा यात्रा की तैयारी हेतु बचत भवन के सभागार में आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिये कि 27 जनवरी से 31 जनवरी 2020 के मध्य, प्रदेश में गंगा यात्रा का आयोजन किया जाना है। सम्बन्धित ग्रामों के नोडल अधिकारी प्रत्येक दशा में 23 जनवरी तक अपने-अपने गांव-क्षेत्रों की कार्य योजनाओं को पूरा कर हरहाल में मुहैया करवा दिया जाये। उन्होंने निर्देश दिये कि प्रत्येक ग्रामों में पशु मेला, स्वास्थ्य मेला, प्लास्टिक का प्रयोग पूरी तरह से प्रतिबंद्ध, प्रत्येक ग्रामों में रात्रि चैपाल व ठहरने की व्यवस्था, गंगा तलाबा, गंगा पार्क, गंगा मैदान, ओपेन जिम, खेल साम्रगी, साफ-सफाई, शौचालय आदि व्यवस्थाओं को युद्ध स्तर पर पूरा कर लिया जाये। 29 ग्राम पंचायत गंगा के किनारे हैं। इन ग्राम पंचायतों के नोडल अधिकारी-कर्मचारी अपने-अपने क्षेत्रों में भ्रमण जारी रखकर वहां की व्यवस्थाओं को देखकर गंगा यात्रा के सम्बन्ध में दिये गये दिशा निर्देशों के अनुरूप पूरा करें। उन्होंने ने कहा कि 30 जनवरी को गंगा यात्रा का आयोजन किया जाना है 30 जनवरी को गंगा यात्रा रायबरेली बार्डर अरखा ऊँचाहार में प्रवेश करती हुई जेल रोड होते हुए लालगंज में आयोजित कार्यक्रम स्थल बैसवारा डिग्री कालेज प्रांगण में जाकर एक भव्य समारोह-कार्यक्रम पूर्ण होकर आगे के लिए जायेगी। साथ ही सभी 29 गंगा के ग्रामों में सभी शौचालय का बनना व समुचित संचालन आदि कार्यो को किया जाना है। गंगा यात्रा के दौरान प्रभारी मंत्री, सांसद, विधायक आदि का भी रात्रि विश्राम भी रहेगा जिसकी समुचित तैयारों को अधिकारी व कर्मचारी दुरूस्त रखे और जहां पर सांसद, विधायक आदि लोगों के ठहरने के साथ ही शौचालय, पानी, विद्युत, खान-पान आदि की व्यवस्थाए चाकचैबंद रहे। समस्त ग्राम पंचायतों में एक चबूतरा व खेल मैदान भी बनाना है। उन्होंने कहा कि गंगा के किनारे 29 गंाव के नोडल अधिकारी अपने-अपने निर्धारित गांव में जाकर वहां की सारी व्यवस्थाए दुरूस्त कराये गये। 
गंगा नदी के तटवर्ती क्षेत्र में पड़ने वाले सभी नगर निकायों में ओडीएफ प्लस के लक्ष्य को पूर्ण करे, सीवर-ड्रेनेज का प्रवाह गंगा नदी में न हो, पालीथीन का प्रयोग पूर्णतया रोक, गंगा आरती व सांस्कृतिक कार्यक्रम जगह चिन्हित रहे, गंगा पार्क में ओपेन जिम की व्यवस्था रहे, कार्याे में स्थानीय स्वरोजगार को बढ़ावा भी मिले। यात्रा के दौरान जहां-जहां सम्भव हो वहां स्टीमर या नौकायान से दूरी तय की जाएगी एवं जहां संभव न हो वहां सड़क मार्ग के माध्यम से यह दूरी तय की जायेगी स्टीमर और नौकाओं की व्यवस्थाए दुरूस्त रखी जाये। इसके अलावा जगह-जगह वाल पेटिंग या बोर्ड लगवा दिया जाये कि गंगा नदी में शव प्रवाहित व निकट जलाना, कूड़ा-कचरा फेकना, नालो का पानी पूरी तरह से प्रतिबद्धित रखा जाये। स्थानीय सांसद, प्रदेश के मंत्री तथा विधायकगण द्वारा यात्रा के दौरान गंगा नदी के किनारे पड़ने वाले सभी ग्राम पंचायतों एवं नगर निकाय में रात्रि विश्राम किया जायेगा इसे पूरी तरह से व्यवस्थाओं को पूर्ण कर लें। विधायकगण द्वारा अलग-अलग स्थानों पर रात्रि विश्राम किया जायेगा। गंगा के किनारे किसी भी दशा में कुड़ा आदि के साथ ही नालियों का पानी किसी भी दशा में गंगा में न बहाया जाये। इस मौके पर एडीएम राम अभिलाष, डीपीआरओ, मनरेगा अधिकारी आदि जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।