ALL News Religion Views Health Astrology Tourism Story Celebration Film/Sport Vedio
हिम्मत से सच कहो तो बुरा मानते हैं
January 15, 2020 • प्रदीप जी

नये साल में आर्थिक आजादी के लक्ष्यों को कैसे हासिल करें? अपने लक्ष्यों को एक स्मार्ट, व्यवहारिक एवं हासिल करने योग्य को सूचीबद्ध करें। समय-समय पर आयोजित होने वाली तीन दिवसीय वोटरशिप टेªनिंग में भाग लेकर राजनीति सुधारक की भूमिका निभाते हुए लोकतंत्र को मजबूत करें। इस दिशा में निरन्तर आगे बढ़ने में हम आपकी सहायता करेंगे। लोकतंत्र के निर्माता वोटर्स को हक है कि वोटरशिप अधिकार कानून के द्वारा आर्थिक आजादी के एकमात्र विकल्प को शीघ्र सच कर दिखाने का। कुछ चीजें सहयोग के साथ मिलकर करने से सफलता की ओर तेजी से बढ़ती हैं।
 मैं वोटरशिप विरोधियों को चुनौती देता हूँ कि वह मीडिया के माध्यम से साबित करें कि वोटरशिप अधिकार कानून के बनने से देश का क्या अहित होगा? वोटरशिप विचार पर देश के वोटरों को गुमराह न करें, लोकतंत्र के निर्माता वोटरों की एकता को न तोड़े! वोटरशिप के लाभों को जाने जो मेरे द्वारा लिखित पुस्तकों, यूट्यूब वीडियो, इण्टरव्यू तथा वेबसाइट पर आसानी से सर्व-उपलब्ध हैं। 
 आज देश भर में वोटरशिप पर चर्चा हो रही है। भारतीय संसद में वोटरशिप अधिकार कानून बनाने के लिए चर्चा कराकर माननीय सांसदों को जनमत का सम्मान करना चाहिए। हमारा विश्वास है कि वोटरशिप लाने से देश सदैव के लिए गरीबी से मुक्त होगा। भारत के गरीबी मुक्त होने से ही विश्व के गरीबी मुक्त होने का मार्ग प्रशस्त होगा। 
 आर्थिक मंदी का स्थायी समाधान वोटरशिप में उपलब्ध है। वोटरशिप के द्वारा पैसे का प्रवाह प्रत्येक वोटर तथा उसके परिवार की ओर हो जाने से देश आर्थिक मंदी से मुक्त होगा। वोटरशिप से परिवार जैसी महत्वपूर्ण संस्था घरेलु कलह से तथा प्रत्येक बेटी दहेज प्रथा से सदैव के लिए मुक्त हो जायेगी। घर-घर में खुशहाली आयेगी। आर्थिक आजादी मिलने से हर एक चेहरा खिल उठेगा। प्रत्येक वोटर के जीवन में खुलकर तथा खिलकर जीने के युग का शुभारम्भ होगा। अभी नही तो फिर कभी नहीं.....!  
 विश्व परिवर्तन मिशन तथा वी.पी.आई. की तरफ से देश के वोटरों को वोटरशिप अभियान से जुड़ने का बेमिसाल तथा अब तक का सबसे बड़ा खुला हार्दिक आमंत्रण है। अवसर का लाभ उठाने से चूक जाने पर फिर न कहना हम समय और शक्ति के रहते मानव जाति की आर्थिक आजादी के लिए कुछ कर न सके। कृपया उम्मीद और विश्वास का कैरी बैग अपने साथ लेकर आयें और उसमें खुशहाली भरकर ले जायें। 
 वोटरशिप घर-घर आर्थिक आजादी लाने की उम्मीद और विश्वास की मिसाल बनकर उभर रहा है। आर्थिक आजादी पर ही पारिवारिक एकता, सामाजिक एकता तथा विश्व एकता का मार्ग प्रशस्त होगा। वोटरशिप रूपी भवन ‘‘सबका भला में अपना भला’’ सिद्धान्त की मजबूत नींव पर खड़ा किया गया है। इस मजबूत नींव की पहली मंजिल पर देश स्तरीय सरकार के बाद, दूसरी मंजिल पर दक्षिण एशियाई सरकार, तीसरी मंजिल पर आधे विश्व की सरकार तथा अंतिम मंजिल पर विश्व की सरकार बनाने का मजबूत इरादा है। 
 वर्तमान में पहली मंजिल की राष्ट्रीय सरकार द्वारा वोटरशिप के माध्यम से छः हजार रूपये प्रतिमाह प्रत्येक वोटर को देने का हमारा संकल्प है, दूसरी मंजिल की दक्षिण एशियाई सरकार बनाकर वोटरशिप को बढ़ाकर पन्द्रह हजार रूपये प्रतिमाह करेंगे, तीसरी मंजिल की आधे विश्व की सरकार बनाकर वोटरशिप की रकम पच्चीस हजार रूपये प्रतिमाह करेंगे तथा चैथी मंजिल की विश्व सरकार बनाकर चालीस हजार रूपये प्रतिमाह वोटरशिप के द्वारा प्रत्येक वोटर के खाते में भेजने का हमारा वादा है। 
 आधुनिक तकनीक के माध्यम से हम आम जनता के जीवन को बेहतर कर सकते है। हम देश के प्रत्येक वोटर की आर्थिक आजादी के लिए प्रतिबद्ध है। वोटरशिप लम्बे समय से आर्थिक गुलामी से जुझ रहे करोड़ों लोगों को मुक्ति दिलाने अचूक दवा है। वोटरों को अब जनता की आवाज बनना चाहिए। इसके लिए टीम के रूप में काम किया जा रहा है। हमें अपनी दिनचर्या को वोटरशिप विचारधारा के साथ ढालना है। हक से मांगों वोटरशिप! 
  वर्ष 2005 से 2019 तक वोटरशिप अभियान की निरन्तर यात्रा चल रही है उसके साथ ही निरन्तर देश के वोटर्स का विश्वास बढ़ता जा रहा है। वर्ष 2020 में नई इबादत लिखने को देश के वोटर्स तैयार हैं। लगभग 25 वर्षों में हर चीज के मायने बदल गये, संकल्प बदल गये, बल्कि दुनिया ही बदल गयी, परन्तु विश्व परिवर्तन मिशन के संकल्प का जज्बा तथा जुनून नहीं बदला है न कभी भी बदलेगा। 
 वोटर बन्धु, अपने वोट का मूल्यांकन अपने आर्थिक आजादी के और अपने आर्थिक समृद्धि के उद्देश्य को ध्यान में रखकर करें। वोटर की कीमत आर्थिक आजादी तथा सामाजिक सुरक्षा है। इसका रास्ता वोटरशिप की राह से होकर ही जाता है। हम आर्थिक आजादी हासिल करने के महामंत्र वोटरशिप अधिकार कानून को अपने वोट की ताकत से शीघ्र ही साकार करने जा रहे हैं। ऐसा देश के प्रत्येक वोटर की उम्मीद तथा विश्वास होना चाहिए। प्रत्येक वोटर को सदैव स्मरण रखना है कि उनके एक वोट में वोटरशिप अधिकार कानून बनाने की बड़ी भारी ताकत छिपी है। अब जो वोटरशिप की बात करेगा, वही देश में राज करेगा। 
 सवाल यह नहीं है कि आप किस उम्र में रिटायर होते हैं, बल्कि रिटायरमेन्ट के समय आपकी आमदनी क्या है, यह मायने रखता है। आर्थिक गुलामी से मुक्त होने तथा आर्थिक आजादी पाने का वोटरशिप अधिकार कानून बनाने का के लिए देश के प्रत्येक वोटर के हाथ में वोट का सबसे शक्तिशाली हथियार है। वोट के द्वारा सरकार बनाने की अब अपनी फीस के रूप में प्रत्येक वोटर को वोटरशिप के रूप में वर्तमान में छः हजार रूपये प्रतिमाह मांगनी है। अभी नही तो फिर कभी नहीं।  
 नूतन वर्ष 2020 में खुद को आर्थिक आजादी के एक समृद्धशाली जीवन के लिए शुभकामनायें दें। जो अपनी सहायता स्वयं नहीं करते उनकी सहायता कुदरत भी नहीं करती। नूतन वर्ष 2020 में साधारण कदम उठाकर असाधारण परिणाम है - वोटरशिप अधिकार कानून का गठन करना। ‘‘सबका भला- अपना भला’’सिद्धान्त को अपनाये। अपने लक्ष्य वोटरशिप को लेकर कभी देर नहीं होती, आज से ही अभी से ही शुरू करें! 
 डियर वोटर, ‘‘लेट्स टाॅक वोटरशिप’’ हमारे विचार यूट्यूब पर वोटरशिप भरत गांधी पर जाकर देखे। चैनल को सब्सक्राइव करें ताकि आपको रोजाना हमारे वीडियो सबसे पहले मिल सके। डियर वोटर, देश का प्रत्येक नागरिक प्राकृतिक संपदाओं का असली मालिक है। इस हिसाब से प्रत्येक नागरिक करोड़ांे की दौलत का मालिक है। वोटर को आर्थिक समृद्धि से अपना हिस्सा वोटरशिप अधिकार कानून बनाकर सुनिश्चित करना चाहिए। ऐसा न हो कि कहना पड़े - अब पछताये क्या होत है। जब चिड़िया चुग गयी खेत।
 प्रिय वोटर बन्धु, वोटरशिप के अपने बड़े अधिकार को पूरा करने के लिए छोटे-छोटे कदम बढ़ाये। हम सदा हर क्षण आपके साथ है। मन के जीते जीत है मन के हारे हार। धीरे-धीरे मोड़ इस मन को इस मन को। मन मोड़ा तो फिर डर नहीं। फिर दूर वोटरशिप का घर नहीं। 
 प्रिय वोटर, केवल अब छः हजार रूपये प्रतिमाह वोटरशिप ही नहीं, सरकारी कर्मचारी की तरह मँहगाई भत्ता भी प्रत्येक वोटर को देने का हमारा पक्का वादा है। वोटरशिप की वैधता के बारे में प्रसिद्ध अर्थशास्त्रियों तथा संविधान विशेषज्ञों की सहर्ष स्वीकृति है। करोड़ों लोगों को गरीबी तथा बेरोजगारी से बचाने के वोटरशिप इस युग की सबसे बड़ी आवश्यकता है। अपनी जिन्दगी बेहतर तरीके से बिताने का हर किसी का लक्ष्य होता है। स्मार्ट वोटर बनकर वोटरशिप को अपना लक्ष्य बनायें। इसे विशेष प्राथमिकता, आकलन करने योग्य, स्थायी, स्पष्ट, कानून, संविधान सम्मत और समय-सीमा के अंदर साकार होने योग्य होना चाहिए। 
 वोटरशिप एक स्मार्ट लक्ष्य है। यह हमें एक जागरूक नागरिक तथा लोकतंत्र तथा सरकार निर्माता होने का अहसास हर पल कराता है। लोकतंत्र के असली मालिक को अपना सब कुछ जन सेवकों पर छोड़कर गहरी नींद में सोते नहीं रहना चाहिए। जीवन में सदैव कर्मशील तथा श्रमशील बने रहने से ही आर्थिक तथा सामाजिक समृद्धि आती है। चल जाग वोटर भोर भई, सब जागत है तू सोवत है, जो जागत है सो पावत है जो सोवत है वह खोवत है। यह प्रीत करन रीत नहीं हम जागत है तू सोवत है। सब कुछ भगवान भरोसे छोड़ना कर्महीनता तथा कायरता है।  
 अपनो से अपनी बात। प्रिय वोटर बन्धु, रोजाना अपनी सुविधानुसार अपने कुछ समय का निवेश करके वोटरशिप के बारे में जानने तथा जानकर इसके बारे में अपने आस-पास के इष्ट-मित्रों तथा रिश्तेदारों को अवगत कराने की छोटी-सी शुरूआत करें। वोटरशिप के बारे की पाॅकिट बुक खरीदकर अपने इष्ट-मित्रों को उपहार में या उसकी मामूली सी कीमत लेकर देने के अभियान में शामिल हो। बेरोजगार बन्धुओं के लिए हमने नियमित आर्थिक आमदनी की व्यवस्था भी की है। आप अपने मोबाइल से पुस्तक उपहार स्वरूप भेंट करने की फोटो खींचकर उसे अपने ग्रुप में शेयर करें। जिन्हें आप पुस्तक दे उसकी सूची बनाकर फीड बैक ले। एक पुस्तक की प्रति को कम से कम पचास लोग पढ़े ऐसी योजना बनाये। दुष्यंत कुमार की शायरी इस प्रकार है - सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं, मेरी कोशिश है कि यह सूरत बदलनी चाहिए। मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही, हो कहीं भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए। आपकी छोटी सी कोशिश देश तथा सारे विश्व में सकारात्मक परिवर्तन कर सकती है।