ALL News Religion Views Health Astrology Tourism Story Celebration Film/Sport Vedio
जलमग्न पिरामिड
January 12, 2020 • स्रोत्र- डी.एस. परिहार

अटलांटिक सागर की गहराइयों में विवादित बरमूडा क्षेत्र के केन्द्र में विख्यात समुद्रविज्ञानी डा. मेयर वर्लग ने सोनार की मदद से दो बड़े क्रिस्टल पिरामिड की खोज की है। जिनका आधार 300 मीटर लंबा और 200 मीटर ऊँचा है। इसे मानव द्वारा निर्मित माना जा रहा है। वैज्ञानिकों के अनुसार यह मिस्त्र के महान पिरामिड से तीन गुना बड़े हैं। पाल वेनजिवेग और पालिन जेटिजकी ने क्यूबा समुद्र के किनारे एक अन्र्तसमुद्रीय रोबोट के सहारे समुद्र के दो किमी नीचे कई स्फिनिक्स और चार बड़े पिरामिडों की खोज की है। इसके अलावा उन्हें कई अंय भवनों के अवशेष भी मिले है। उनका अनुमान है कि सागर के नीचे किसी प्राचीन सभ्यता के अवशेष पड़े है। कुछ वैज्ञानिकों के अनुसार यह प्रारम्भिक सभ्यता के पिरामिड है। जिन्हें किसी अज्ञात तकनीक के द्वारा बनाया गया है। जो पुराने धु्रव परिवर्तन के समय जलमग्न हो गये थे। इन्हें सबसे पहले 1968 मे मीसा, एरिजोना के एक नेचुरोपैथ डाक्टर रे ब्राउन ने अचानक खोजा था जिनकी हाल ही मे फ्रान्स और यू. एस. के वैज्ञानिकों की टीम ने पुष्टि की है। ब्राउन अपने कुउ मित्रों के साथ क्यूबा के समुद्र तट पर छुट्टियां मनाने गये थे वहाँ वे अपने मित्रों के साथ गोताखोरी कर रहे थे अचानक वे अपने साथियों से बिछड़ गये, जब वे मित्रों के साथ संपर्क करने प्रयास कर रहे थे कि अचानक उन्हें सूर्य रोषनी में चमकता हुआ एक अति विशाल पिरामिड दिखा आक्सीजन कम होने के कारण वे वहां ज्यादा देर तक नही रूके पर वे अपने साथ एक किस्टल का एक टुकड़ा लाये। जिसके वैज्ञानिक परीक्षण मे उसमे कुछ विचित्र शक्तियां पाई गई हैं।
 पुर्तगाल के टेरसायरा समुद्र किनारे समुद्र मे एक 60 मीटर ऊँचा पिरामिड मिला है। इसे सर्वप्रथम एक याच नाविक ने समुद्र से 40 मीटर नीचे देखा था यह फुटबाल के मैदान से भी बड़े करीब 8,000 वर्गमीटर क्षेत्रफल मे फैला हुआ है। पिरामिड के साथ अन्य भी कई पत्थर के भवन पाये गये हैं। 1997 में जापान के योनागुनी द्वीप के तट पर समुद्र मे 5 मीटर नीचे 150 फुट गुना 140 फुट आकार का और 90 फुट ऊँचा एक बलुआ पत्थर और मट्टी से बना पिरामिठ मिला है। जिस पर कुछ मानवों और जानवरों के चित्र मिले है। कुछ विद्वान इसे 2 से 3 हजार वर्ष पुराना मानते है। और कुछ इसे इ्र्रसा से 8,000 वर्ष पूर्व का मानते है। जब यह पानी से उपर था।