ALL News Religion Views Health Astrology Tourism Story Celebration Film/Sport Vedio
झांसी में लॉकडाउन की स्थिति 3 मई तक यथावत रहेगी
April 20, 2020 • पंकज भारती - ब्यूरो चीफ झांसी • News

झांसी जनपद में 20 अप्रैल 2020 से लॉक डाउन में ग्रामीण क्षेत्रों में मनरेगा के कार्यों में छूट दी गई है। क्षेत्र में पेयजल आपूर्ति सुचारू रहे, इसके लिए जल संस्थान के द्वारा पेयजल आपूर्ति के कार्यों को छूट के साथ ही लगभग 22 उद्योग जो लॉकडाउन में भी क्रियाशील रहे उन्हें शामिल करते हुए छूट प्रदान की गई है, शेष जनपद में लॉकडाउन की स्थिति 3 मई 2020 तक यथावत रहेगी। यह बात जिलाधिकारी आन्द्रा वामसी ने विकास भवन सभागार में आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए दिए। उन्होंने कहा कि जो कार्य अनुमन्य किए गए उनमें सोशल डिस्टेंसी का कड़ाई से अनुपालन किया जाए। विकास भवन सभागार में बैठक लेते हुए जिलाधिकारी आन्द्रा वामसी ने कहा कि लॉक डाउन में ग्रामीण क्षेत्रों में मनरेगा कार्य की छूट दी गई है। उन्होंने कहा कि ग्राम स्तर पर तालाब खोदे जाने, तालाब की सफाई व गहरीकरण के साथ ही मनरेगा अंतर्गत अन्य कार्यों को किए जाने की अनुमति प्रदान की गई है। उन्होंने ताकीद करते हुए कहा कि प्रॉपर सोशल डिस्टेंसी का पालन किया जाए तथा श्रमिक मास्क अथवा गमछे ध्तौलिया से चेहरा ढका हो। यह अवश्य सुनिश्चित हो।
उन्होंने कहा कि लॉक डाउन में पेयजल समस्या ना हो, इस कारण जल संस्थान के कार्यों को भी छूट दी गई। जल संस्थान द्वारा पाइप पेयजल योजना का रखरखाव, हैंडपंप मरम्मत के कार्यों के साथ ही टैंकर द्वारा पेयजल आपूर्ति को किए जाने की अनुमति दी गई है ताकि क्षेत्र में विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्र में पेयजल समस्या ना हो। उन्होंने बताया कि लॉक डाउन के दौरान 22 उद्योगों संचालित हो रहे थे। वह नियमित संचालित होंगे। यदि भविष्य में उद्योग संचालन हेतु आवेदन प्राप्त होता है तो आवश्यकतानुसार परीक्षण करते हुए उचित कार्यवाही की जाएगी। जिलाधिकारी ने कहा कि 3 मई 2020 तक सामुदायिक रसोई का संचालन यथावत रहेगा। साथ ही इंटीग्रेटेड कंट्रोल रूम भी पूर्व की भांति संचालित रहेगा। इस मौके पर एसएसपी डी प्रदीप कुमार, मुख्य विकास अधिकारी निखिल टीकाराम फुंडे, सीएमओ डॉक्टर गजेंद्र कुमार निगम, एडीएम राम अक्षयवर चैहान, एसपी देहात राहुल मिठास, एसपी नगर राहुल श्रीवास्तव, एसडीएम संजीव कुमार मौर्य सहित अन्य अधिकारी गण उपस्थित रहे।