ALL News Religion Views Health Astrology Tourism Story Celebration Film/Sport Vedio
कौशल विकास मिशन
January 15, 2020 • समाचार

भारतवर्ष में 35 वर्ष से कम युवाओं की अच्छी खासी जनसंख्या है। इनमें कई ऐसे युवा भी हैं जो बेरोजगार हैं। जो युवक-युवती बेरोजगार हैं और अल्पशिक्षित हैं, ऐसे युवाओं को विभिन्न संचालित टेªड्स में प्रशिक्षण दिलाकर रोजगार से लगाने के लिए देश के प्रधानमंत्री ने कौशल विकास मिशन योजना संचालित की है। बहुत से ऐसे युवक हैं, जिनके पास हुनर है लेकिन पैसा नहीं है, ऐसे लोग किसी भी हुनर को सीखने के लिए प्रशिक्षण नहीं ले पाते हैं। कौशल विकास मिशन ऐसे लोगों के लिए वरदान साबित हुई है। इस योजनान्तर्गत युवक-युवतियां निःशुल्क प्रशिक्षण प्राप्त कर रोजगार से लग रहे हैं। इस योजना में अपनी इच्छानुसार चयनित टेªड्स में लाभार्थी प्रशिक्षण प्राप्त कर सकते हैं। उन्हें नई-नई तकनीकी जानकारी दी जाती है। प्रशिक्षण प्राप्त कर रोजगार से लगने पर उनकी आय होती है और गरीबी दूर होती है। लोगों के जीवन में सुधार आता है और उनके परिवार के साथ देश भी तरक्की के पथ पर अग्रसर होता है।
 प्रदेश में उत्तर प्रदेश कौशल विकास मिशन के अन्तर्गत 14 से 35 वर्ष आयुवर्ग के अल्पशिक्षित बेरोजगार युवाओं को निःशुल्क रोजगारपरक व्यावसायिक प्रशिक्षण प्रदान कर उन्हे रोजगार दिलाकर, आजीविका अर्जित करने के लिए सक्षम व समर्थ बनाने के दृष्टिगत विभिन्न टेªेड्स में कौशल विकास प्रशिक्षण योजनाएं संचालित हैं। प्रदेश में कौशल विकास मिशन के अन्तर्गत अब तक 8.85 लाख से अधिक युवाओं को प्रशिक्षण दिया गया है और 3 लाख से अधिक युवाओं को सेवायोजित कराते हुए रोजगार से लगाया गया है। अनेकों प्रशिक्षण प्राप्त लाभार्थी अपना स्वरोजगार स्थापित कर आय अर्जित कर रहे हैं। प्रदेश सरकार द्वारा विभिन्न क्षेत्रों में हस्तशिल्प से जुड़े हुए परम्परागत शिल्पकारों को उनके शिल्प कौशल के उन्नयन व प्रमाणीकरण द्वारा उत्पादों की गुणवत्ता में सुधार करने तथा उनके बेहतर व लाभकारी मूल्यों पर विक्रय के लिए व्यापक स्तर पर प्रयास किये गये हैं। चालू वित्तीय वर्ष में 2 लाख से अधिक शिल्पकारों को विशेष प्रशिक्षण देते हुए लाभान्वित किया जा रहा है।
 जिलाधिकारी, रायबरेली शुभ्रा सक्सेना ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा कौशल प्रशिक्षण योजनाओं में और अधिक यथार्थता व पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिए प्रथम बार जनपद स्तरीय नियोजन पर बल दिया जा रहा है। प्रत्येक जनपद में जिलाधिकारी की अध्यक्षता में गठित जिला कौशल विकास समिति के माध्यम से योजना तैयार की जा रही है, जिसमें जनपद की विशिष्टताओं रोजगार की सम्भावनाओं में कौशल विकास की दिशा में अनुभव की जाने वाली चुनौतियों व उनके विकल्पों को भी समाहित करेगी। युवाओं में व्यावसायिक शिक्षा के प्रति रूझान व जागरूकता एवं जानकारी के लिए विभिन्न प्रचार माध्यमों के द्वारा प्रचार-प्रसार भी किया जा रहा है। प्रदेश सरकार द्वारा प्रशिक्षण प्राप्त युवाओं को रोजगार दिलाने के लिए प्रत्येक जनपद में रोजगार मेले का आयोजन भी किया जा रहा है। रोजगार दिलाने की दिशा में विशिष्ट प्लेसमेंट एजेंसीज के अनुबन्ध भी किये जा रहे हैं, ताकि ये एजेंसीज प्रशिक्षित युवाओं के लिए रोजगार के अवसर ढूंढ़ सके और उन्हें सेवायोजित कर सकें। उत्तर प्रदेश कौशल विकास मिशन की यह पहल कौशल विकास योजनाओं के क्रियान्वयन और बेहतर गुणवत्ता तथा अर्थपूर्णता के साथ कार्य करते हुए युवाओं-युवतियों को रोजगार से लगाया जा रहा है।