ALL News Religion Views Health Astrology Tourism Story Celebration Film/Sport Vedio
शिक्षण कक्ष में डीवीआर सहित वायस रिकार्डर युक्त सी.सी.टी.वी. कैमरा आदि व्यवस्थाओं को रखे दुरूस्त
January 16, 2020 • समाचार

जिलाधिकारी, रायबरेली शुभ्रा सक्सेना ने बचत भवन के सभागार में आयोजित बैठक में निर्देश दिये है कि माध्यमिक शिक्षा परिषद उत्तर प्रदेश प्रयागराज द्वारा आयोजित वर्ष 2020 की हाईस्कूल-इण्टरमीडिएट बोर्ड परीक्षा जो कि 18 फरवरी से प्रारम्भ होकर 6 मार्च को समाप्त होगी। परीक्षाओं में नकल की रोक-थाम तथा परीक्षाओं को शान्तिपूर्ण ढंग से सम्पन्न कराने की समुचित तैयारियों को दुरूस्त रखा जाये। परीक्षाओं में अनुचित साधन प्रयोग (नकल) की प्रवृत्ति-सम्भावनाओं पर अंकुश लगाने, परीक्षाओं की शुचिता, पवित्रता, गुणवत्ता एवं विश्वसनीयता तथा विधि-व्यवस्था बनाए रखने हेतु उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा बोर्ड व प्रशासन पूरी तरह से कटिबद्ध है। परीक्षाआंे के सभी 102 परीक्षा केन्द्रों को एक बार उसे पुनः जिला विद्यालय निरीक्षक व समस्त एसडीएम प्रत्येक दशा में अपने-अपने क्षेत्र के अनुमोदित परीक्षा केन्द्रों का भ्रमण कर मानक के अनुरूप है या नहीं जांच कर जिलास्तरीय जिला समिति के अनुमोदन हेतु सम्मुख रखे तथा केन्द्रों पर कोई कमी पायी जाती है तो उसकी जानकारी दें ताकि समय रहते दुरूस्त कर लिया जाये। उन्होंने निर्देश दिये है कि धारण क्षमता अधिक होने, परीक्षा केन्द्र दूरी अधिक होने, अन्य संसाधन न होने की स्थिति, सीसी कैमरा सभी परीक्षा कक्षों में पूर्ण रूप से सक्रिय, जनरेटर की व्यवस्था, विद्युत व्यवस्था, शुद्ध पेयजल, शौचालय, प्रत्येक शिक्षण कक्ष में सीसी कैमरा लगा, विद्यालय में परीक्षा हेतु पर्याप्त फर्नीचर, विद्यालय की फिजिकल कंडीशन, आपत्तियों का निस्तारण, बाउंड्रीबाल, मानक के अनुरूप व्यवस्थायें, आदि तथात्मक स्थिति, नवर्निमित कक्ष हर दृष्टि से पूर्ण होनी चाहिए। इसके अलावा विद्यालयों के मुख्य गेट पर वायस रिकार्डर युक्त सी.सी.टी.वी. कैमरों की उपलब्धता एवं प्रत्येक शिक्षण कक्ष में डीवीआर सहित वायस रिकार्डर युक्त एक ओर सी.सी.टी.वी. कैमरा लगा होना आदि व्यवस्थाओं को दुरूस्त रखा जाना चाहिए। प्रत्येक सेक्टर में सीटी मजिस्टेªट, उप जिलाधिकारी, तहसीलदार, नायब तहसीलदार तथा जनपदस्तरीय अधिकारियों को सेक्टर मजिस्टेªट बनाकर यह सुनिश्चित किया जायेगा कि परीक्षा के दौरान परीक्षा केन्द्रों का सेक्टर मजिस्टेªट द्वारा सत्त प्रभावी निरीक्षण भी किया जा रहा है। संवेदनशील परीक्षा केन्द्रों की पहचान अभी से कर ली जाये यदि कोई हो तो वहां पर स्टैटिक मजिस्टेªट तैनात कर विशेष नजर रख कर ध्यान दिया जाये। 
 जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने सख्त लहजे में कहा कि परीक्षा बहुत सख्त पारदर्शी, गुणवत्तापरक  माहौल में सम्पन्न करवाने हेतु उत्तर प्रदेश बोर्ड तथा शासन द्वारा जारी सभी जरूरी दिशा निर्देशों का अनुपालन करते हुए परीक्षाओं को सकुशल सम्पन्न कराना है। परीक्षाओं में नकल की प्रवृत्ति, संभावनाओं पर अंकुश लगाने, परीक्षाओं की शुचिता, गुणवत्ता एवं विश्वसनीयता तथा विधि व्यवस्था बनाए रखने की दृष्टि से उक्त परीक्षाआंे के आयोजन हेतु परीक्षा केन्द्रों की व्यवस्था के सम्बन्ध में शासन द्वारा नीति निर्धारण करते हुए शासनादेश उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा पूर्व जारी किया जा चुका है। जिसका शत प्रतिशत पालन किया जाना सुनिश्चित है। विद्यालय का निर्धारण निष्पक्षता, पारदर्शीय मानक के अनुरूप ही होना है इसको भली भांति देख ले। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद बोर्ड द्वारा संचालित हाईस्कूल-इंटरमीडिएट परीक्षा वर्ष 2020 को नकल विहीन, शान्तिमय वातावरण में सम्पन्न कराई जाना शासन की प्राथमिकता में हैै जिसे गंभीरता से लिया जाये। कंटोल रूम की स्थापना कर उनमें अधिक से अधिक लेडलाईन व मोबाईल नम्बर के माध्यम से सक्रिय रखा जाये। परीक्षा केन्द्रों की आनलाइन माॅनिटरिंग किये जाने की व्यवस्था जिला सूचना विज्ञान अधिकारी (एनआईसी) अपने स्तर से नियमानुसार देखकर सभी आवश्यक कार्यवाही पूरी करेंगे।
 इस मौके पर अपर जिलाधिकारी प्रशासन राम अभिलाष, समस्त केन्द्रों के प्रधानाचार्य-प्रभारी एडी सूचना प्रमोद कुमार आदि अधिकारी सहित डीआईओएस कार्यालय के अधिकारी-कर्मचारी व स्कलों के केन्द्र प्रभारी भी मौजूद रहे।